श्री हनुमान जी के चमत्कारी 12 नाम की महिमा

श्री हनुमान जी के चमत्कारी 12 नाम की महिमा

श्री हनुमान जी के ये 12 चमत्कारी नाम उनकी महिमा को व्यक्त करते हैं और उनके विशेष गुणों का स्मरण करते हैं। भक्तों को इन नामों के जाप द्वारा श्री हनुमान जी की कृपा प्राप्त होती है और समस्याओं का समाधान होता है।

बजरंगबली के 12 चमत्कारी नाम:

  1. ॐ हनुमान
  2. ॐ अंजनी सुत
  3. ॐ वायु पुत्र
  4. ॐ महाबल
  5. ॐ रामेष्ठ
  6. ॐ फाल्गुण सखा
  7. ॐ पिंगाक्ष
  8. ॐ अमित विक्रम
  9. ॐ उदधिक्रमण
  10. ॐ सीता शोक विनाशन
  11. ॐ लक्ष्मण प्राण दाता
  12. ॐ दशग्रीव दर्पहा

नाम के अर्थ

  1. ॐ हनुमान: पहले नाम “ॐ हनुमान” है, जोकि उनकी भक्ति को समर्पित है और उन्हें सर्वशक्तिशाली बनाता है। इस नाम से भगवान राम के सबसे निकटी और प्रिय भक्त के रूप में पूजा जाता है। हनुमान जी को साक्षात् भगवान राम का अंश माना जाता है और उनकी भक्ति का फल मिलता है। इस नाम का जाप भक्तों को शक्ति, साहस, और सुरक्षा प्रदान करता है।
  2. ॐ अंजनी सुत: दूसरे नाम “ॐ अंजनी सुत” है, जिससे प्रकट होता है कि हनुमान जी माता अंजनी के पुत्र हैं। अंजनी जी माता पवनपुत्र हनुमान की माता थीं और उन्हें अंजनी सुत कहा जाता है। यह नाम उनके पारिवारिक संबंध को स्पष्ट करता है और उनके माता-पिता की कृपा के प्रतीक है। भक्त इस नाम का जाप करके आध्यात्मिक उन्नति और परिवार के सुख-शांति की प्राप्ति कर सकते हैं।
  3. ॐ वायु पुत्र: तीसरे नाम “ॐ वायु पुत्र” है, जो हनुमान जी को वायु देवता के पुत्र के रूप में प्रशंसा करता है। वायु देवता की संतान के रूप में भी हनुमान जी को पुकारा जाता है। भगवान हनुमान के पिता पवन देवता थे और उनकी माता अंजनी थीं, इसलिए वे वायुपुत्र भी हुए। यह नाम भक्तों को साहस, शक्ति, और उच्च स्तर की आध्यात्मिक प्राप्ति में सहायक होता है।
  4. ॐ महाबल: चौथे नाम “ॐ महाबल” है, जो हनुमान जी की अद्भुत शक्ति और बल को दर्शाता है। उनके अत्यधिक शक्ति और बल को देखते हुए इस नाम से उनकी महाशक्ति को दर्शाया जाता है। इस नाम का जाप भक्तों को शक्तिशाली बनाता है और उन्हें सभी कठिनाइयों का सामना करने की क्षमता प्रदान करता है।
  5. ॐ रामेष्ठ: पाँचवें नाम “ॐ रामेष्ठ” है, जिससे दर्शाया जाता है कि हनुमान जी भगवान राम के प्रिय भक्त हैं। हनुमान जी ने अयोध्या के राजा भगवान राम की सेवा की और उन्हें उनकी अवतारी लीला का साक्षात् दर्शाया। इस नाम का जाप भक्तों को भगवान राम के प्रति श्रद्धा और भक्ति में वृद्धि करता है।
  6. ॐ फाल्गुण सखा: छठे नाम “ॐ फाल्गुण सखा” है, जो उनके मित्र अर्जुन (फाल्गुण) को संदर्शन करता है। इस नाम से हनुमान जी के और भगवान राम के मित्र अर्जुन के मित्रता का स्मरण होता है। हनुमान जी और अर्जुन की मित्रता का उदाहरण भक्तों के लिए सजग रहता है और इस नाम का जाप भक्तों के स्नेह-भाव को बढ़ाता है।
  7. ॐ पिंगाक्ष: सातवें नाम “ॐ पिंगाक्ष” है, जो हनुमान जी के एक आंख के रंग को दर्शाता है। हनुमान जी के चेहरे की पीली आँखें उनकी पहचान हैं और इसी कारण उन्हें पिंगाक्ष कहा जाता है। यह नाम भक्तों को विचारशीलता और विवेक की प्राप्ति में सहायक होता है।
  8. ॐ अमित विक्रम: आठवें नाम “ॐ अमित विक्रम” है, जो उनके अद्भुत वीरता को प्रशंसा करता है। अमित विक्रम का अर्थ होता है “अविचलित वीरता” या “अद्भुत पराक्रम”। हनुमान जी की अद्भुत पराक्रम और वीरता को देखते हुए उन्हें अमित विक्रम कहा जाता है। इस नाम का जाप भक्तों को अद्भुत साहस और वीरता की प्राप्ति में सहायक होता है।
  9. ॐ उदधिक्रमण: नौवें नाम “ॐ उदधिक्रमण” है, जिससे दर्शाया जाता है कि हनुमान जी विशाल सागर तक के कदम रख सकते हैं। इस नाम का अर्थ होता है “समुद्र को पार करने वाले”। भगवान हनुमान ने समुद्र को पार करके लंका जाकर माता सीता का सन्देश भगवान राम को पहुंचाया था। इस नाम का जाप भक्तों को दुर्भाग्य और संशय से पार करने में सहायक होता है।
  10. ॐ सीता शोक विनाशन: दसवें नाम “ॐ सीता शोक विनाशन” है, जो बताता है कि हनुमान जी ने माता सीता के विषय में दुःख का नाश किया। इस नाम का अर्थ होता है “सीता के शोक का नाश करने वाले”। हनुमान जी ने लंका जाकर माता सीता का संदेश भगवान राम को दिलवाया और उनके शोक का नाश किया था। इस नाम का जाप भक्तों को दुखों और शोकों से मुक्ति की प्राप्ति में सहायक होता है।
  11. ॐ लक्ष्मण प्राण दाता: ग्यारहवें नाम “ॐ लक्ष्मण प्राण दाता” है, जो दर्शाता है कि हनुमान जी ने भगवान राम के भाई लक्ष्मण को जीवन दिया। भगवान हनुमान ने भगवान राम के भाई लक्ष्मण को जीवंत करने के लिए संजीवनी बूटी लाई थी। उन्हें इसी कारण लक्ष्मण प्राण दाता कहा जाता है। इस नाम का जाप भक्तों को स्वास्थ्य और लंबी आयु की प्राप्ति में सहायक होता है।
  12. ॐ दशग्रीव दर्पहा: बारहवें नाम “ॐ दशग्रीव दर्पहा” है, जो हनुमान जी ने रावण के गर्व को तोड़ दिया। इस नाम से उन्हें लंका के राजा दशग्रीव के दर्प के नाशक के रूप में जाना जाता है। इस नाम का जाप भक्तों को दुश्मनों और अशुभता से मुक्ति की प्राप्ति में सहायक होता है।

हनुमान जी को “बजरंगबली” या “बजरंगबल” के रूप में जाना जाता है। वे हिन्दू धर्म के एक महत्वपूर्ण देवता हैं और भगवान राम के भक्त, मित्र और भक्ति भावना के प्रतीक हैं। हनुमान जी की विशेषता है कि उनके कई नाम और अस्त्र-शस्त्र हैं, जिन्हें चमत्कारी और शक्तिशाली माना जाता है। यहां हम बजरंगबली के 12 चमत्कारी नामों के बारे में विस्तार से जानेंगे। इन बारे में चर्चा करते समय, हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि हनुमान जी के नामों का जाप भक्तों को आध्यात्मिक उन्नति, सभी प्रकार के दुःखों और बुराईयों से मुक्ति, साहस, शक्ति, सुरक्षा, स्वास्थ्य, और धर्मिक संबंधों में समृद्धि की प्राप्ति में सहायक हो सकता है। यह नाम संसार के भेद-भावों को दूर कर एकता, समरसता, और प्रेम की प्राप्ति के लिए भक्तों को प्रेरित कर सकते हैं। हनुमान जी के भक्ति और विश्वास के साथ, भक्त इन चमत्कारी नामों का जाप कर अपने जीवन में आध्यात्मिक उन्नति, शक्ति, और सुख-शांति की प्राप्ति कर सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top